Thyroid in Hindi

जानिए थायराइड के लक्षण कारण और इलाज | Know All About Thyroid in Hindi

थायराइड विशव भर में बढ़ता ही जा रहा है थायराइड की समस्या महिलाओं में पुरुषों के मुताबिक ज्यादा पायी जाती है| थायराइड(thyroid in hindi) तितली के आकार की एक ग्रंथि होती है, जो हॉर्मोन बनाती है| थायराइड दो मुख्य प्रकार के होते हैं (tyoes of thyroid) हाइपरथायराइड और हाइपोथाइरॉएड| हाइपरथायराइड की समस्या में थायराइड हार्मोन ज्यादा मात्रा में बनने लगता है और हाइपोथाइरॉएड की समस्या में थायराइड हार्मोन कम मात्रा में बनने लगता है| थायराइड से जुड़ी कई सारी समस्याएं होती है| आज हम आपको इस लेख में थायराइड के लक्षण(symptoms of thyroid), इलाज(treatment of thyroid), इससे कैसे बचाव किया जा सकता है(how to prevent thyroid), इसके क्या कारण होते हैं(causes of thyroid)…. इन् सभी के बारे में जानकारी देंगे |

Contents

थायराइड क्या है? | What is Thyroid in Hindi

थायराइड एक ग्रंथि है (what is thyroid in hindi) जो टी-3 और टी-4 हार्मोन का निर्माण करती है| टी-3 यानी ट्राईआयोडोथायरोनिन और टी-4 यानी थायरोक्सिन हॉर्मोन | हमारे शरीर के अंदर थायराइड की समस्या तब उत्पन्न होती है जब ये हारमोंस हमारे शरीर में असंतुलित होके, नियमित मात्रा से कम या ज्यादा हो जाते हैं| थायराइड की समस्या पुरुषों के मुक़ाबले महिलाओ और बुजुर्गों में ज्यादा पाई जाती है|

थायराइड के लक्षण | Symptoms of Thyroid in Hindi

थायराइड के कई सारे लक्षण होते हैं, अगर आपको निम्नलिखित लक्षणों में से किसी का अनुभव हो रहा है तो आप एक बार डॉक्टर को ज़रूर दिखाए :

  • वजन का बढ़ना या कम होना
  • बालो का झड़ना 
  • थकान होना 
  • मांसपेशियो में दर्द
  • तनाव
  • सांस लेने में परेशानी होना 
  • गला बैठना 
  • नाखुनो का कमजोर होना 
  • खाना निगलने में दिक्कत होना 
  • गर्दन में सूजन

थायराइड होने के कारण | Causes of Thyroid in Hindi

थायराइड के कई सारे कारण हो सकते है, निचे बताये गए कारण थायराइड के लिए ज़िम्मेदार हो सकते हैं |  

  1. ज्यादा तनावभरी जिंदगी (stressful life) जीने से थायराइड हो सकता है| 
  2. यदि आपके परिवार में ये समस्या पहले से किसी को है तो आपको भी ये समस्या हो सकती है| 
  3. गर्भावस्था में महिलाओ के अंदर काफी हार्मोनल बदलाव होते हैं,  जिसके कारण उसको थायराइड की समस्या हो सकती है| 
  4. डायबिटीज के मरीजों को भी थायराइड की समस्या हो सकती है| 
  5. बढ़ता वजन या मोटापा भी इसका एक कारण हो सकता है|
  6. अधिक ताली हुई चीज़े खाने से भी थायराइड हो सकता है|

थायराइड सम्बन्धी समस्याओं से बचने के उपाए | How to Prevent Thyroid

निचे दी गयी चीज़ो को ध्यान में रख के थायराइड सम्बन्धी समस्याओं (thyroid problem hindi) से बचा जा सकता है| 

  1. धूम्रपान से धुर रहे 
  2. आयोडीन का प्रयाप्त मात्रा में सेवन करे 
  3. तनाव ना ले 
  4. ताली हुई चीज़ो का सेवन कम करे 
  5. योग करे 
  6. संतुलित आहार ले 
  7. शराब से धुर रहे

थायराइड सम्बन्धी समस्याओं का उपचार | Thyroid Treatment

थायराइड सम्बन्धी समस्याओं के निम्नलिखित उपचार हैं | 

  1. दवाइयाँ (Medicines for Thyroid) – दवाइयों का सेवन करना इस समस्या का एक उपचार है | डॉक्टर हमें ऐसी दवाइयों का सेवन करने को कहते हैं जो हार्मोन्स की प्रक्रिया को नियंत्रित रखती हैं|
  2. जीवनशैली में बदलाव (Change in Lifestyle) – जीवनशैली में बदलाव लाना भी थायराइड सम्बन्धी समस्याओं का एक उपचार हैं | अगर कोई धूमपान करता है तो उस इंसान को धूम्रपान त्याग कर, पोषक तत्वों से भरपूर व्यंजन का सेवन करना शुरू करना चाहिए जो थायराइड सम्बन्धी समस्याओं को नियंत्रित करने में मदद करता है |
  3. सर्जरी (Surgery for Thyroid) – सर्जरी की जरुरत तब पढ़ती है जब किसी व्यक्ति को सांस लेने में तकलीफ होती है| इसको करते दौरान थायराइड ग्रंथि का पूरा हिस्सा या कुछ हिस्सा निकाल दिया जाता है (treatment of thyroid in hindi)|
  4. व्यायाम और योग (Exercise and Yoga for Thyroid) – ये भी थायराइड सम्बन्धी समस्याओं का एक उपचार है| व्यायाम और योग करने से थाइरोइड हार्मोन के स्तर को नियंत्रित किया जा सकता है|
  5. कीमोथेरपी (Chemotherapy for thyroid Cancer ) – थाइरोइड कैंसर के इलाज में कीमोथेरपी एक उपचार है| कीमोथेरपी मेंदवाइयों को नसों के द्वारा डाला जाता है|

थायराइड सम्बन्धी समस्याओं के जोखिम | Risk Related to Thyroid Problems

  1. अगर इन् समस्याओं का इलाज जल्द नहीं कराया जाता है तो आगे चलके ये हानिकारक हो सकती हैं|
  2. लकवा, हार्ट फ़ैल, स्ट्रोक जैसी मुश्किलों का सामना भी करना पढ़ सकता है| 
  3. थाइरोइड कैंसर आसपास के हिस्सों में भी फेल सकता है जिसकी वजह से अन्य कई समस्याएं हो सकती हैं| 

थायराइड सम्बन्धी समस्याओं के घरेलु उपचार | Home Remedies of Thyroid Problems

अलसी के फायदे थायराइड के लिए | Benefits of Flaxseed for Thyroid

अलसी का इस्तेमाल थायराइड के मरीजो के लिए बहुत फायदेमंद हो सकता हैं इसमें ओमेगा-3 पाया जाता है जो थायराइड हार्मोन को नियंत्रित करने में मदद करता है| अलसी का सेवन नियमित मात्रा में ही करे| 

अलसी को थायराइड में कैसे इस्तेमाल करे | How to use Flaxseed for Thyroid

एक चमच्च अलसी के पउडर या चूरन को गरम पानी में डालकर पी ले, इसे दिन में 1-2 बार  पिए|

नारियल तेल के फायदे थायराइड के लिए | Benefits of Coconut Oil for Thyroid

थायराइड की समस्याओ से राहत पा ने के लिए नारियल तेल का सेवन भी एक अच्छा उपाए    साबित हो सकता है| 

नारियल तेल को थायराइड में कैसे इस्तेमाल करे | How to use Coconut Oil for Thyroid

आप इसे खाने बनाने में तेल के तोर पे काम में ले सकते हैं और इसका सेवन गरम पानी के साथ भी कर सकते हैं|  

काली मिर्च के फायदे थायराइड के लिए | Benefits of Black pepper for Thyroid

थायराइड की समस्याओ से राहत पा ने के लिए काली मिर्च का सेवन भी एक अच्छा उपाए है| काली मिर्च में एक तत्व पाया जाता है जो थायराइड हॉर्मोने को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है|

काली मिर्च को थायराइड में कैसे इस्तेमाल करे | How to use Black Pepper for Thyroid

आप भोजन में नियमित रूप में काली मिर्ची का सेवन कर सकते हैं| 

अश्वगंधा के फायदे थायराइड के लिए | Benefits of Ashwagandha for Thyroid

थायराइड की समस्याओ से राहत पा ने के लिए अश्वगंधा एक उच्च तरीका हो सकता है| हाइपोथायराइड के मरीजों के अश्वगंधा का इस्तेमाल करना बहुत फायदेमंद होता है क्योकि यह थायराइड हार्मोन को बढ़ाने में मदद करता है| इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से वचार विमर्श जरूर करले | 

लोकि जूस के फायदे थायराइड के लिए | Benefits of Gourd Juice for Thyroid

रिसर्च द्वारा मालुम पड़ा है की लौकी के छिलके में एंटीथायराइड गुण पाए जाते हैं जो बढ़े हुए थायराइड हॉर्मोन को बंद करने में मदद करता हैं| 

लोकि जूस को थायराइड में कैसे इस्तेमाल करे | How to use Flaxseed for Thyroid

लोकि के जूस को निकलकर इससे खाली पेट पिले इसमें काली मिर्च, निम्बू, और नमक जरूर मिलाये| 

ऊपर दिए गए घरेलु इलाजो को करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर ले|

उम्मीद है आपको हमारे लेख की मदद से थायराइड से जुडी सारी जरुरी जानकारी (thyroid in hindi) प्राप्त हो गयी होगी|

अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न | FAQ’S

क्या थायराइड जानलेवा है?

अगर किसी व्यक्ति को ये बीमारी है तो उसे इसका इलाज जल्द से जल्द करा लेना चाहिए वरना आगे जलके ये बीमारी हानिकारक हो सकती है|

थायराइड लेवल कितना होना चाहिए?

प्रेगनेंसी के पहले तीन महीने के दौरान महिलाओ के शरीर में थायराइड लेवल 0.5 ml/u से 2.5 ml/u के बीच रहना चाहिए|

थायराइड का टेस्ट कितने का होता हैं?

थायराइड का टेस्ट मात्र 200 रूपए में होता है|

Leave a Reply

Your email address will not be published.