Plasma Therapy Kya Hai Hindi

Plasma Therapy क्या है यह कैसे काम करता है और इसके Side Effects

नमस्कार दोस्तों, आज मैं प्लाज्मा थेरेपी को आसान और सरल भाषा में समझाने की कोशिश करूँगा।मैं इस लेख में आपको बताउगा की Plasma Therapy Kya Hai और इसके Side Effects

मैं अपने सभी लेख में, मैं KISS सिद्धांत का उपयोग करता हूँ

KISS – Keep it short and simple

इसकी मदद से मेरे पाठक बिना किसी अव्यवस्था के हर विषय को आसानी से समझ पा रहे हैं

खासकर कोरोनावायरस के फैलने के बाद गूगल पर Plasma Therapy Kya Hoti Hai और Iske Nuksaan की बहुत सारी Search होती हैं जिसके कारण मैंने इस विषय को लिखने के लिए चुना है।

प्लाज्मा थेरेपी पर जाने से पहले मैं बताऊंगा कि प्लाज्मा क्या है

PLASMA / प्लाज्मा क्या है? What Is Plasma In Hindi

प्लाज्मा हमारे रक्त का सबसे बड़ा हिस्सा है। यह blood का आधे से अधिक (लगभग 55%) बनाता है। प्लाज्मा एक हल्का पीला तरल है। प्लाज्मा water, salts and enzymes से बना होता है|

प्लाज्मा की मुख्य भूमिका nutrients, hormones और protiens को शरीर के उन हिस्सों में ले जाना है, जिनकी आवश्यकता है|

प्लाज्मा थेरेपी कब प्रसिद्ध हुई?

कोरोनोवायरस के बाद कई हेल्थकेयर कंपनियां और डॉक्टर इस बीमारी को ठीक करने के लिए एक उपचार या वैक्सीन खोजने की कोशिश कर रहे थे और प्लासामा थेरेपी उपचार में से एक है

How Does Plasma Therapy Work कैसे काम करता है?

दोस्तों हमारे लिए यह समझना बहुत अनिवार्य है कि क्यों कोरोनावायरस इतना भयंकर है

कोरोनावायरस को नोवल कोरोनावायरस कहा जाता है क्योंकि यह एक नया वायरस है और इस वायरस से लड़ने के लिए एंटीबॉडी मानव जाति में मौजूद नहीं हैं।

किसी भी बीमारी से लड़ने के लिए हमारा शरीर एंटीबॉडीज बनाता है और एंटीबॉडी तभी बनते हैं जब उस Disease ने एक बार हमारे शरीर पर हमला किया हो|

हमारे शरीर में एक ऐसी बीमारी से लड़ने के लिए एंटीबॉडी नहीं होती जिससे शरीर परिचित नहीं है ऐसे में एक व्यक्ति जिसे की कोरोनावायरस हो चुका है और वह उससे ठीक हो चुका हो| उस व्यक्ति की एंटीबॉडी को दूसरे बीमार व्यक्ति की बॉडी में ट्रांसफर करना प्लाज्मा थेरेपी के मदद से किया जाता है|

जब इस व्यक्ति के एंटीबॉडी, जो सफलतापूर्वक कोविद से लड़े हैं और स्वस्थ हैं, को अब उस व्यक्ति में ट्रांसफर कर दिया जाता है जो कोविद संक्रमित हैं, संभावनाएं हैं की ये एंटीबॉडी इस व्यक्ति के लिए भी कोरोनावायरस से लड़ेंगे।

यह उपचार वर्तमान में जीवन को बचा रहा है और यह बहुत प्रभावी साबित हुआ है

LIMITATIONS

अब तक का लेख पढ़ने के बाद आप सभी सोच रहे होंगे कि अगर कोरोनावायरस को ठीक करना इतना आसान है तो हम सभी को यह उपचार क्यों नहीं दे रहे हैं।

इसका जवाब यह है कि इस उपचार की बहुत सारी लिमिटेशंस और साइड इफेक्ट हैं

  1. New Infection – यदि किसी व्यक्ति को कोरोनावायरस की बजाय डेंगू या अत्याधिक बीमारी है और उसे यह उपचार दिया जाए तो स्थिति और भी ज्यादा बिगड़ सकती है क्योंकि डेंगू और कोरोनावायरस के सिम्टम्स एक जैसे हैं तो यह गलती होने के चांसेस बहुत अधिक है.
  2. Entry Of New Known Or Unknown Pathogens – प्लाज्मा थेरेपी देते समय यह भी संभावना है कि अन्य ज्ञात या अज्ञात रोगजनकों (pathogens, bacteria, virus etc.) को रोगियों में पेश किया जा सकता है।
  3. Large Gap Between Positive, and Recovered Case – कोविद पॉजिटिव और बरामद मामलों के बीच एक बड़ा अंतर है, जिसका मतलब है कि कोविद 19 के उपचार के रूप में बड़े पैमाने पर प्लाज्मा थेरेपी का उपयोग करना असंभव है।

प्लाज्मा थेरेपी की बहुत अधिक जटिल सीमाएं हैं, लेकिन इसे आम आदमी के दृष्टिकोण से समझने के लिए मुझे लगता है कि उपर्युक्त पर्याप्त है

आशा है कि आप सभी को यह लेख पसंद आएगा

धन्यवाद!

Leave a Reply

Your email address will not be published.